Thursday, June 4, 2020
Home दस महाविद्या

दस महाविद्या

    दस महाविद्या : शत्रुनाश में उपयोगी आठवीं महाविद्या बगलामुखी

    दस महाविद्या में बगलामुखी आठवीं मानी जाती हैं। इन्हें भगवान विष्णु की शक्ति भी कहा जाता है। शत्रु के संहार, दमन, स्तंभन आदि में...

    दस महाविद्या : आध्यात्मिक उत्थान की देवी सातवीं महाविद्या धूमावती

    धूमावती को सातवीं महाविद्या माना गया है। इनका रूप वृद्धा, कृशकाय, वक्रदंता और विधवा का है। उनके बाल बिखरे हुए हैं और वह रथ...

    उग्र विद्या: छिन्नमस्ता (प्रचंड चंडिका)– (दस महाविद्या)

    छिन्नमस्ता को दस महाविद्याओं में छठा स्थान प्राप्त है। आध्यात्म के क्षेत्र में इनका बहुत महत्व है। अत: विद्यात्रयी में इन्हें दूसरे स्थान पर...

    दस महाविद्या : जन्म, पालन और संहार की अधिष्ठात्री माता त्रिपुर भैरवी

    दस महाविद्याओं में माता भैरवी का स्थान पांचवां है। यह माता त्रिपुर सुंदरी का उग्र रूप मानी जाती हैं। यह जन्म, पालन और संहार...

    दस महाविद्या : चौथी महाविद्या भुवनेश्वरी के प्रतिदिन स्मरणीय मंत्र

      दस महाविद्याओं में चौथे नंबर पर हैं माता भुवनेश्वरी। जो मूल प्रकृति हैं उन्हें ही भुवनेश्वरी कहा जाता है। इन्हें गोपाल सुंदरी भी कहा...

    दस महाविद्या: तीसरी महाविद्या षोडषी के प्रतिदिन स्मरणीय मंत्र

    तीसरी महाविद्या श्रीविद्या को षोडषी एवं त्रिपुर सुंदरी भी कहा जाता है। इन्हें काली का ही एक रूप माना जाता है। काली के दो...

    दूसरी महाविद्या तारा के प्रतिदिन स्मरणीय उपयोगी मंत्र (दस महाविद्या)

    दूसरी महाविद्या तारा को मूल रूप से ज्ञान की देवी माना जाता है। इसलिए इनका एक नाम नील सरस्वती भी है। मान्यता है कि...

    मनुष्य ही नहीं देवता को भी शक्ति और सिद्धियां देती हैं प्रथम महाविद्या काली

    दस महाविद्या में काली का स्थान पहला है। उनके बारे में सबसे ज्यादा ग्रंथ लिखे गए हैं। उनमें से अधिकतर लुप्त हो चुके हैं।...

    दस महाविद्या : देवी के दस रूप व उनका वर्णन

    तंत्र के क्षेत्र में सबसे प्रभावी हैं दस महाविद्या। उनके नाम हैं - काली, तारा, षोडषी, भुवनेश्वरी, भैरवी, छिन्नमस्ता, धूमावती, बगला, मातंगी और कमला।...
    Baglamukhi

    बगलामुखी के उपासकों के लिए वरदान है ब्रह्मास्त्र

    बगलामुखी को ही ब्रह्मास्त्र विद्या की जननी कहा गया है। उनके उपासकों के लिए ब्रह्मास्त्र स्तोत्र रामबाण की तरह है। इसका हर संकट में...

    Stay connected

    19,754FansLike
    2,191FollowersFollow
    14,700SubscribersSubscribe
    - Advertisement -

    Latest article

    Story

    बिना अध्यात्म के जीवन निरर्थक, समर्पण से मिलते हैं ईश्वर

    लोग अक्सर छोटी-छोटी समस्याओं मेंं उलझ कर जीवन के मूल मुद्दे से भटक जाते हैं। मेरा, तेरा, अपना, पराया के चक्कर मेंं जीवन अधूरा...
    Rishi

    बोध कथा : सतर्क रहें, कभी भी भटक सकता है मन

    मोह में फंसकर भरत ऋषि बने हिरण काम, क्रोध, लोभ और मोह इतने खतरनाक हैं कि बड़े-बड़े ऋषि मुनि इसके चक्कर में पड़कर भटक गए।...
    Horoscope

    राशिफल 29 जुलाई : जानिये क्या कहती है आपकी राशि….

                            29 जुलाई का पंचांग सोमवार, श्रावण मास कृष्णपक्ष। तिथि- द्वादशी शाम के 05:09...