Home अन्य आस्था व सौंदर्य का संगम, तीन झरनों वाला छोटा केदारेश्वर

आस्था व सौंदर्य का संगम, तीन झरनों वाला छोटा केदारेश्वर

285
आस्था व सौंदर्य का संगम, तीन झरनों वाला छोटा केदारेश्वर
आस्था व सौंदर्य का संगम, तीन झरनों वाला छोटा केदारेश्वर।

Confluence of faith and beauty Chota Kedareshwar : आस्था व सौंदर्य का संगम है तीन झरनों वाला छोटा केदारेश्वर। मध्य प्रदेश के रतलाम के पास है यह दिव्य स्थल। रतलाम से आठ किलोमीटर दूर पहाड़ी में चट्टानों के बीच बनी प्राकृतिक गुफा में स्वयं प्रगट शिवलिंग है। इसकी जानकारी करीब 500 साल पूर्व मिली थी। स्थानीय लोगों की श्रद्धा का यह बड़ा केंद्र था। यह दुर्गम स्थल में है। यहां तक पहुंचने के लिए पहले नदी पार करनी पड़ती है। फिर पहाड़ी की चढ़ाई पूरी करनी पड़ती है। यहां तीन बहुत ही सुंदर झरने हैं। वे पास ही में मिल जाते हैं। इसलिए इसे संगम भी कहा जाता है। यह आज श्रद्धालुओं की आस्था का बड़ा केंद्र है। मान्यता है कि यहां आने वाले श्रद्धालुओं को बाबा भोलेनाथ की कृपा अवश्य मिलती है।

कई राजाओं ने कराया है मंदिर का निर्माण

आस्था व सौंदर्य का यह स्थल सैलाना के पहाड़ी क्षेत्र में है। सदियों तक इसके बारे में बाहर के लोगों को अधिक जानकारी नहीं थी। सन 1736 में सैलाना रियासत के महाराज जयसिंह ने मंदिर का निर्माण करवाया। उन्होंने ही महाकेदारेश्वर की तर्ज पर इसका नाम छोटा केदारेश्वर रखा। बाद में अन्य राजाओं ने यहां कई और निर्माण कार्य करवाए। सालों पर यहां श्रद्धालुओं का आना-जान लगा रहता है। भगवान शिव की कृपा से लोगों की मनोकामना पूरी होती है। सावन में भारी भीड़ उमड़ती है। मंदिर के पास पहुंच कर एक अलग रोमांच महसूस होता है। मंदिर परिसर में झरनों का गिरता पानी लोगों को मंत्रमुग्ध कर देता है।

बारिश के मौसम में देखते बनती है छटा, उमड़ते हैं पर्यटक

मंदिर के पास 50, 40 और 30 फीट पर तीन झरने हैं। इनका पानी 50 मीटर के बाद एक साथ मिल जाता है। उस स्थान को संगम कहते हैं। यह पानी बुंदन नदी मिलता है। वहां से बांसवाड़ा के पास माही नदी में इसका पानी पहुंचता है।बारिश के मौसम में यहां का सौंदर्य देखते ही बनता है। हर साल बड़ी संख्या में पर्यटक पहुंचते हैं। हरी-भरी घास में लिपटे खूबसूरत पहाड़, खूबसूरत झरने, नदियों के संगम का विहंगम दृश्य देखते ही बनता है। रेत, बालू व चिका मिट्टी से बनी चट्टानें लोगों को आकर्षित करती हैं। इसके साथ ही कुछ चट्टानें ज्वालामुखी के दरारी उद्भेदन से निकले लावा से बनी प्रतीत होती हैं।

यह भी पढ़ें- चंचल मन से सतर्क रहें, मोह बड़ा खतरनाक

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here