राशि के आधार पर जानें कारोबार अनुकूल करने के उपाय

75
राशि के आधार पर जानें कारोबार अनुकूल करने के उपाय
राशि के आधार पर जानें कारोबार अनुकूल करने के उपाय

how to get profit in business : कारोबार अनुकूल करने के उपाय। आज हम आपको कुछ ऐसे सूत्र बतायंगे जिनपर अमल करके न सिर्फ आप अपने कारोबार को सही पटरी पर ला सकते हैं बल्कि इन्हें अपनाकर सफलता भी प्राप्त कर सकते हैं। यहां पर हम निम्नलिखित उपायों को जातक की राशि के अनुसार बता रहे हैं। अगर आपके व्यवसाय में किसी भी तरह की बाधा उत्पन्न हो रही है या मन मुताबिक परिणाम नहीं मिल पा रहे हैं तो इन उपायों को अपनाकर व्यवसाय में लाभ प्राप्ति कर सकते हैं ।

कन्या

कन्या राशि के स्वामी बुद्ध होते हैं। जातकों को अपने कार्यालय में हल्के हरे एवं हल्के आसमानी रंगों का उपयोग करना चाहिए। कार्यालय में लकड़ी के फर्नीचर का उपयोग करें। पूर्वी दीवार पर घड़ी लगाएं। कार्यालय का कोई भी बिजली का अथवा इलेक्ट्रॉनिक उपकरण खराब नहीं रहना चाहिए। पूजा घर में श्री गणेश, मां दुर्गा एवं माता लक्ष्मी की तस्वीर को स्थान दें। वर्ष में 2 बार व्यवसाय स्थल पर मां दुर्गा की पूजा करवाएं। अपने बैठने की कुर्सी पर यह ध्यान रखें कि उसमें पहिए ना हों।

तुला

तुला राशि के स्वामी शुक्र होते हैं। पूजा घर को ईशान कोण में ही रखें तथा श्री गणेश, महालक्ष्मी, भगवान शंकर एवं श्री हरि विष्णु की तस्वीर को स्थान दें। जिस स्थान पर बैठें उससे पीछे कोई ठोस आधार अवश्य होना चाहिए अर्थात कोई दीवार आदि होनी चाहिए।  माह में एक बार श्री सूक्त एवं कनकधारा स्तोत्र का विधि विधान से पाठ अवश्य करवाएं। कार्यालय की साज-सज्जा में हल्के रंगों का प्रयोग करे। माह में कम से कम दो शनिवार को किसी हनुमान मंदिर पर पांच गरीबों को सरसों के तेल से निर्मित कोई भी भोज्य सामग्री दान करें।

रोजगार की स्थिति को इस तरह जानें, करें मनोनुकूल

वृश्चिक

कारोबार अनुकूल करने के उपाय। इस राशि के स्वामी मंगल हैं। जातक कुछ तेज स्वभाव के परंतु संयमी होते हैं। अपने कार्यस्थल के मुख्य द्वार पर अंदर की ओर सिंदूर से स्वस्तिक चिन्ह बनाएं तथा बाहर की ओर श्री गणेश जी की प्रतिमा को स्थान दें। पूजा घर में श्री हनुमान जी की तस्वीर को स्थान दें। प्रत्येक शनिवार एवं मंगलवार को प्रभु को सिंदूर के तिलक कर शुद्ध घी का दीपक जलाएं । घर से कार्यालय की ओर आएं तो गुड़ और जल का सेवन करके ही निकलें।

धनु

इस राशि के स्वामी बृहस्पति हैं। इस राशि के जातक अत्यंत सौम्य स्वभाव के होते हैं। जातकों को अपने धन रखने के स्थान पर सफेद चंदन की लकड़ी के साथ तीन हल्दी की गांठ व एक केसर की डिब्बी अवश्य रखनी चाहिए। पूजा घर में श्री हरि विष्णु की तस्वीर को स्थान दें। कार्यालय में हल्के पीले रंग का प्रयोग करें।  फर्नीचर ज्यादातर लकड़ी के रखें। पूजा घर को भी अपने सामने की दीवार पर ही रखें। पूर्णिमा एवं गुरु पुष्य योग के दिन निकट के किसी भी मंदिर में दर्शन कर गरीबों को कुछ ना कुछ धन का दान देकर ही कार्यालय आएं ।

मकर

मकर राशि के स्वामी शनि देव हैं। यह जातक अपने व्यापार में सफलता प्राप्त करने के लिए कितनी भी मेहनत करने में सक्षम होते हैं। जातकों को अपने कार्यालय में नीले रंग के चमकीले शेड का प्रयोग करना चाहिए। मुख्य निर्णय लेने के लिए शुक्रवार का दिन शुभ होता है। पीपल की पूजा व्यापारिक सफलता में सहयोग करती है।

कुम्भ

कुंभ राशि के स्वामी शनि होते हैं। ऐसे जातक मन के अच्छे होते हैं परंतु उनके मन की बात कोई नहीं जान सकता। राशि के आधार पर जानें कारोबार अनुकूल करने के उपाय। इस राशि के जातक अपने बैठने का ऐसा स्थान बनाएं जहां से बाहर से कोई व्यक्ति इनको ना देख सके। कार्यस्थल में हल्का लाल, हल्का नीला एवं हल्के पीले रंग का प्रयोग करें। कार्यालय में शनिवार को यदि कोई भिखारी आता है तो उसे कभी भी खाली हाथ वापस नहीं करें ।

मीन

मीन राशि के स्वामी बृहस्पति हैं। जातक अपने कार्यस्थल में हल्के पीले रंग का प्रयोग अवश्य करें। पूजा स्थल में श्री हरि विष्णु, मां लक्ष्मी एवं मां सरस्वती की तस्वीर को स्थान दें। गुरुवार को अपने व्यवसाय के नाम से भगवान दत्तात्रेय के मंदिर में जाकर दान करें। गाय को आटे के पेडे एवं गुड़ खिलाना चाहिए। जब कार्यालय आए तो केसर का सेवन करें। राशि के आधार पर जानें काम-धंधा अनुकूल करने के उपाय। कारोबार अनुकूल करने के उपाय। माह के प्रथम बुधवार को बेसन के तीन लड्डू लाकर पूजा स्थल में रखकर अगले दिन वह लड्डू गाय को खिला दें।

विशेष- किसी भी प्रकार के उपाय करने से पहले करने वाले को पूरी तरह से निष्ठावान होना चाहिए। किसी भी तरह की जल्दबाजी करने से बचें। अधिकांश मामलों में हमने देखा है उपाय करने वाले लोग बहुत जल्दी में आकर सफलता के एकदम नजदीक पहुंचकर उपाय बदल देते हैं। ऐसे में कोई भी नया उपाय उपाय फिर शून्य से आरंभ करना पड़ता है।

यह भी पढ़ें- गणेश के अद्भुत मंत्र और उसकी प्रयोग विधि

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here