उत्सव ही नहीं समस्यामुक्ति का मौका भी है होली

136
वृक्षों का महत्त्व।
वृक्षों का महत्त्व ।

Holi is an opportunity to get rid of problems : उत्सव ही नहीं समस्यामुक्ति का मौका भी है होली। थोड़ी सी मेहनत और उपाय कर आप बड़ी समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं। तो हो जाएं तैयार। यदि आप लगातार बीमारी, टोना-टोटका-तंत्र-मंत्र, धन की कमी, प्रतिकूल ग्रह, दुश्मनी आदि से परेशान हैं। उनसे मुक्ति के लिए यह शानदार अवसर आ गया है। थोड़ी सी ही मेहनत से बड़ी समस्या से छुटकारा संभव है। इस लेख में ऐसे ही कुछ टोटके लेकर आया हूं। इन्हें अवश्य आजमाएं।

बीमारियों से मिलेगा आराम

लगातार बीमारियों से परेशान हैं। दवा का कोई असर नहीं हो रहा है। बीमारियां बढ़ती जा रही हैं। चिंता नहीं करें। इसके लिए सटीक उपाय है। करना सिर्फ इतना है कि होलिका दहन के समय देशी घी, दो लौंग, एक बताशा और पान के एक पत्ते को मिलाकर उस आग में डाल दें। अगले दिन तड़के वहां से थोड़ी राख लेकर घर आ जाएं। उसे रोगी के पूरे शरीर में मल दें। फिर गुनगुने पानी से स्नान कराएं। इससे शीघ्र आराम मिलने लगेगा।

टोना-टोटका व तंत्र-मंत्र के प्रभाव से मुक्ति

किसी ने आप या आपके परिवार पर टोना-टोटका या तंत्र-मंत्र कर दिया। हर काम में गड़बड़ी हो रही है। उसके प्रभाव से परेशान हैं। बार-बार बाधाएं सामने आ रही हैं। बीमारी होती है लेकिन डाक्टर के इलाज से फायदा नहीं हो रहा है। मन उचाट हो रहा है। किसी काम में मन नहीं लगता। बच्चे को नजर लग गई है। वह अकारण रो रहा है। इसमें एक टोटका प्रभावी होता है। होलिका दहन के समय गाय घी में दो लौंग, एक बताशा, एक पान पत्ता और थोड़ी मिश्री को मिलाकर आग में डाल दें। अलगे दिन सुबह उसमें से थोड़ी सी आग लेकर चांदी की ताबीज में गले में पहन लें। शीघ्र आराम मिलेगा। ध्यान रहे होली उत्सव ही नहीं समस्यामुक्ति का मौका भी है।

यह भी पढ़ें- हर समस्या का है समाधान, हमसे करें संपर्क

धन संकट को दूर करने के लिए

यदि आप आर्थिक संकट से परेशान हैं। होलिका दहन की शाम को अपने मुख्य द्वार पर दो मुखी आटे का दीपक बनाएं। चौखट पर थोड़ा सा गुलाल छिड़क कर उप पर दीपक जलाकर रख दें। दीपक जलाते समय माता लक्ष्मी से मानसिक रूप से संकट दूर करने का निवेदन करें। यह उपाय काफी कारगर है। यदि कहीं धन फंसा हुआ है तो होलिका दहन स्थल पर अनार की लकड़ी से जिसने पैसे फंसा रखे हैं, उसका नाम जमीन पर लिख दें। माता होलिका से धन वापसी की प्रार्थना करते हुए उस पर हरा गुलाल छिड़क दें। इससे निश्चय ही फायदा होगा।

दुश्मनी खत्म और भय दूर करने के लिए

किसी से शत्रुता समाप्त करना चाहते हैं तो होलिका दहन के अगले दिन उस स्थान पर रात 12 बजे जाकर अनार की लकड़ी से उसका नाम लिख दें। फिर नाम को बाएं हाथ से मिटा दें। उस स्थान की थोड़ी सी राख उठा लें। अगले दिन मौका देखकर संबंधित व्यक्ति के सिर पर छिड़क दें। शत्रुता खत्म हो जाएगी। यदि कोई अनावश्यक रूप से डरता है। उसके डर को खत्म करने के लिए दो लौंग, एक नारियल, थोड़ा पीला सरसों को मिलाकर पीड़ित व्यक्ति के ऊपर 21 बार उतार कर होलिका दहन वाली अग्नि में डाल उसका दुष्प्रभाव खत्म हो जाएगा।

प्रतिकूल ग्रहों व वास्तु दोषों को ऐसे करें शांत

होली उत्सव ही नहीं समस्यामुक्ति का मौका भी है। इसमें आप प्रतिकूल ग्रहों और वास्तु दोषों को भी शांत कर सकते हैं। जन्मकुंडली में ग्रह दोषों से परेशान हैं। कई उपाय करके भी फायदा नहीं हो रहा है तो एक बार इसे अवश्य आजमाएं। होलिका दहन के समय उसकी आग में देशी घी में दो लौंग, एक बताशा, एक पान का पत्ता को डाल दें। अगले दिन उस राख को लाकर स्वार्थ सिद्धि योग में नदी में प्रवाहित कर दें। ग्रह शांत हो जाएंगे। वास्तु दोष के लिए होली के दिन सुबह घर के ईशान कोण में ईष्ट देव को पूजा कर गुलाल चढ़ायें। इससे वास्तु दोष में कमी आती है।

नोट-यदि समस्या गंभीर हो तो मुझसे संपर्क कर सकते हैं। मेरे पास योग्य तांत्रिकों की टीम है जो इससे निजात दिलाती है। आप ताबीज भी उचित दर पर ले सकते हैं।

यह भी पढ़ें – आत्मरक्षा व शत्रुनाश में प्रत्यंगिरा मालामंत्र का जवाब नहीं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here