वास्तु और ग्रह दोषों को एक साथ ऐसे करें दूर

9682
वास्तु दोष
वास्तु दोष

Remove Vastu and planetary defects together like this : वास्तु और ग्रह दोषों को एक साथ ऐसे करें दूर। क्या आपने हाल में मकान या कार्यस्थल (नौकरी व व्यवसाय से संबंधित) बदला है? क्या इसके बाद जीवन में अचानक बुरा होने लगा? यदि हां तो परेशान न हों। इसका कारण वास्तु और ग्रह दोष हो सकते हैं। इनका आसान उपाय है। बिना तोड़फोड़ और अधिक खर्च के दोनों दोष दूर किए जा सकते हैं। इस वेबसाइट से अत्यंत कम खर्च में इसके सटीक उपाय जान सकते हैं। अयोग्य लोग समाधान के बदले समस्या बढ़ा देते हैं। विशेषज्ञ आसान व सटीक समाधान करते हैं। सामवेद में लिखा है, गुणानामांतरं प्रायोस्तज्ञो चापरम्। मालतीमल्लिकांमोदं घ्राणं वेत्ति न लोचनम्। अर्थात- गुणों, विशेषताओं में अंतर प्रायः विशेषज्ञों व ज्ञानीजनों द्वारा जाना जाता है। दूसरों के द्वारा कदापि नहीं। जैसे चमेली की गंध नाक से ही जानी जा सकती हैं, आंख से कभी नहीं।

वैज्ञानिक विधि और प्रभावी उपाय

वास्तु शास्त्र और ज्योतिष पूरी तरह से वैज्ञानिक है। इसमें न तो अधिक खर्च की आवश्यकता है और न बड़े बदलाव की। रंग, वस्तु और वनस्पति (पेड़-पौधे) के समायोजन से जीवन में ठोस बदलाव संभव है। परिवर्तन की आवाज वेबसाइट की टीम ने लंबे शोध के बाद इसमें महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त की है। शोध से प्रमाणिक रूप से स्पष्ट हुआ है कि ग्रह, नक्षत्र, राशि और देवी-देवता तक के रंग, वनस्पति, मूल मंत्र और दिशा निर्धारित है। उनके संतुलन से ही कुंडलिनी को जगाना तक संभव है। दुर्भाग्य से सदियों से इस दिशा में नहीं के बराबर शोध हुए। परिणामस्वरूप कर्मकांड के नाम पर पाखंड भर गया। उपाय के नाम पर अधकचरे तरीके प्रयोग किए गए। परिणामस्वरूप समस्या का समाधान नहीं मिल सका। कई बार तो उपाय के बाद समस्याएं बढ़ जाती हैं। आइए जानें गलत उपाय और उसके दुष्प्रभाव के बारे में।

यह भी पढ़ें- राशि के आधार पर जानें अपना व्यक्तित्व और भाग्य

ये है बड़ी गलती, इससे बचें

वास्तु और ग्रह दोषों को दूर करने का सबसे आम उपाय है, रत्न और धातु (अंगूठी) धारण करना। अधिकतर वास्तु शास्त्री और ज्योतिषी यही कराते हैं। सटीक विश्लेषण हो तो यह प्रभावी भी हैं लेकिन चूक होने पर समस्याएं और गंभीर हो जाती हैं। उदाहरण के लिए यदि शनि अशुभ फल दे रहा हो और अशुभ ग्रहों के साथ हो तो अंगूठी पहनने से उसे अधिक शक्ति मिलेगी। अंगूठी ग्रहों को शक्तिशाली बनाने में सबसे कारगर है। अब किसी ने अशुभ ग्रहों व उसके समूह को शक्तिशाली बना दिया तो निश्चय ही और अधिक अशुभ फल मिलेगा। ऐसे में ग्रहों को मंत्र से शांत और अनुकूल करने की आवश्यकता है। इसमें रंग, वनस्पति, मंत्र, दान आदि भी उपयोगी होते हैं। कई बार अशुभ ग्रहों की काट के लिए उनके विरोधी ग्रह को मजबूती देने से भी लाभ मिलता है। इसके लिए विश्लेषण करने वाले का योग्य होना आवश्यक है।

ग्रहों की विशेषता व आपसी संबंधों को जानें

ग्रहों के संबंध को जानकर ही उपाय करने पर सही फल मिलता है। उदाहरण के लिए बृहस्पति कुंडली में कमजोर हैं। उसका शुभ रंग पीला है। वह ईशान कोण (उत्तर-पूर्व) का स्वामी है। ऐसे में घर के उस हिस्से में पीला रंग व पीली वस्तुओं का प्रयोग बढ़ाकर बृहस्पति को अनुकूल किया जा सकता है। यहां समस्या है कि पीला रंग वैराग्य का प्रतीक है। मात्र इसी का उपयोग व्यक्ति को सांसारिक सुख से दूर करता है। इसे नियंत्रित करने के लिए इसमें कुछ अन्य रंग को मिलाना उपयोगी होता है। बुध उत्तर दिशा का स्वामी है। उसका रंग हरा है। ऐसे में पीले के साथ कुछ लोग हरे रंग का उपयोग करते हैं। ऐसा करने पर लाभ के बदले नुकसान होता है। क्योंकि बुध को बृहस्पति का शत्रु माना जाता है। बृहस्पति के मित्र ग्रह मंगल, चंद्रमा व शनि हैं। अतः उनसे संबंधित रंग को मिला सकते हैं।

रंग, वस्तु, वनस्पति और ध्वनि से करें दोष दूर

यदि आप वास्तु और ग्रह दोषों को दूर करना चाहते हैं तो स्वयं सुरक्षित उपाय करें। मकान की स्थिति के आधार पर ग्रहों को देखें। चाहें तो उसे जन्म कुंडली से मिला लें। उपाय के लिए घर में तोड़-फोड़ की आवश्यकता नहीं है। न ही महंगे रत्न और पूजा-पाठ के चक्कर में पड़ने की आवश्यकता है। नाममात्र के खर्च से मकान में रंगों, ध्वनि और वनस्पति (गमले में पौधों) आदि का संयोजन करें। इससे मकान के दोष तो दूर होंगे ही ग्रह दोष भी समाप्त हो जाएंगे। जीवन समस्या मुक्त और खुशहाल हो जाएगा। ये दोनों दोष नौकरी, विवाह, प्रेम संबंध, संतान संबंधी समस्या, आर्थिक संकट, स्वास्थ्य समस्या आदि के कारण हैं। निश्चय जानें कि ग्रह खराब होगा तो मकान में संबंधित वास्तु दोष तय है। इसी तरह वास्तु दोष देखकर ग्रहों की समस्या समझी जा सकती है। इसलिए एक की शांति से दोनों का समाधान संभव है।

नोट- यदि आप परिवर्तन की आवाज से इस समस्या का समाधान कराना चाहते हैं तो मेल एवं वाट्सएप पर संपर्क करें। ऑनलाइन समाधान का शुल्क 11 सौ रुपये और मौके पर जाकर मकान व जन्म कुंडली के आधार पर उपाय बताने का शुल्क 35 सौ रुपये है। हमसे करें संपर्क/contact us @ parivartankiawaj@gmail.com or मुझसे वाट्सएप नंबर +919473196162 पर संपर्क कर सकते हैं। पहले मैसेज करके अपनी समस्या स्पष्ट करें।

यह भी पढ़ें- भौतिक युग में चीनी वास्तु शास्त्र फेंगशुई भी महत्वपूर्ण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here