युवाओं के आदर्श स्वामी विवेकानंद

320
युवाओं के आदर्श स्वामी विवेकानंद संभवतः भारत के एकमात्र ऐसे
संत हैं, जो अध्यात्म, दर्शन और भारतीय धर्म-संस्कृति के साथ ही लोगों को देशभक्ति के लिए भी प्रेरित कर्ता थे। राष्ट्रीयता की भावना उनमें जैसे कूट-कूटकर भरी हुई थी। युवा शक्ति में वे इन गुणणों को भरने के लिए निरंतर प्रयास करते रहे। उनकी  छवि भले ही एक धर्मपुरुष और कर्मयोगी की है किंतु उनके जीवन का बड़ा उद्देश्य अपने देश के युवाओं को रचनात्मक कर्म का मार्ग दिखाकर विश्व में भारत के नाम का डंका बजाना था।
उन्हें अपने उद्देश्य की पूर्ति के लिए केवल चार दशक का अल्प जीवन मिला और इसी सीमित अवधि में उन्होंने न केवल अपने समय की युवा पीढ़ी में अपनी वाणी, कर्म  एवं विचारों से नई ऊर्जा का संचार किया बल्कि बाद की पीढि़यों के लिए भी वे आदर्श बने हुए हैं। वे युवाओं के प्रिय इसलिए हैं कि बचपन से लेकर जीवन के अंतिम क्षण तक उनमें प्रश्न और जिज्ञासा का भाव जीवित रहा। वे रामकृष्ण परमहंस को गुरू मानते थे और उनमें अगाध श्रद्धा रखते थे।
स्वामी विवेकानन्द ने धर्म, अध्यात्म, समाज, दर्शन, चिंतन, सभी स्तरों पर वही मार्ग अपनाया जिसे उन्होंने अपनी तर्क बुद्धि और विवेक की कसौटी पर परखने के बाद सही समझा। यही कारण है कि युवाओं के लिए उनका चिंतन आज भी उतना ही प्रासंगिक है जितना उनके जीवनकाल में था। देखने में यह बात विचित्र लग सकती है कि आज से 100 वर्ष से अधिक समय पहले उन्होंने भारतीय समाज की उन समस्याओं और प्रश्नों को पहचान लिया था, जो आज भी हमारे युवा वर्ग के लिए चुनौती बनी हुई हैं।
सच तो यह है कि उनके जीवन के लगभग सभी पहलू आज भी प्रासंगिक और सार्थक प्रतीत होते हैं। बहुत-सी बातों में तो वे अपने समय से बहुत आगे थे और एक युगदृष्टा की तरह उन्होंने आने वाली चुनौतियों की ओर स्पष्ट संकेत कर दिया था। उन्होंने जो सोचा, कहा और किया उससे कई पीढि़यां दिशा प्राप्त करती रही हैं। आज की पीढ़ी की समस्याओं व चुनौतियों पर नज़र डालते हैं तो विवेकानन्द का जीवन और दर्शन और भी अधिक उपयोगी प्रतीत होता है।
पूरी दुनिया भौतिकवाद की अंधी दौड़, स्वार्थपरता, और विद्वेश के चौराहे पर खड़ी है। ऐसे में स्वामी विवेकानंद  के सिद्धांत शांति, सद्भाव और एकता के साथ मानव मात्र के कल्याण के आधार बन सकते हैं। आज उनकी आवश्यकता और ज्यादा महसूस की जा रही है। स्वामी जी आज भी उतने ही प्रासंगिक और महत्वपूर्ण हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here