सफलता के लिए सकारात्मकता आवश्यक

325
प्रतिकूल ग्रह हैं बीमारियों के कारण, जानें बचाव के उपाय
प्रतिकूल ग्रह हैं बीमारियों के कारण, जानें बचाव के उपाय।

Positivity is necessary for success :  सफलता के लिए सकारात्मकता आवश्यक है। यह मनुष्य को ऊर्जावान बनाती है। सभी धर्मग्रंथों में यह बात अलग-अलग रूप में है। सबका संदेश समान है। सकारात्मक बनें, उदार बनें और जरूरतमंद की मदद करें। स्वार्थी व्यक्ति कुछ समय के लिए भले सफल हो जाए लेकिन उसकी सफलता स्थाई नहीं रहती। उसे आंतरिक खुशी कभी नहीं मिल पाती है। सफलता के बाद भी अंदर से वह खाली रहता है। अध्यात्म के लिहाज से देखें तो भगवान भाव के भूखे होते हैं। वह भाव उनके प्रति समर्पण और प्रेम का होता है। चूंकि सृष्टि के कण-कण में भगवान हैं, तो सकारात्मकता का भाव कहीं न कहीं प्रकृति या भगवान को प्रभावित करता है। जनहित में इस पर श्रृंखला शुरू कर रहा हूं। दो दिन तक लगातार देने के बाद इसे सप्ताह में एक बार दूंगा। यदि इसे अपना सके तो जीवन सफल हो जाएगा।

वसुधैव कुटुंबकम का भाव देता है आत्मिक संतोष

वसुधैव कुटुंबकम का भाव मनुष्य को आत्मिक संतोष देता है। इसके साथ उसकी सकारात्मकता को बढ़ाता है। दुनिया भर में कई सफल लोग सामाजिक कार्यों में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेते हैं। कई तो अपनी आय का बड़ा हिस्सा इसी कार्य में खर्च कर देते हैं। इसका कारण प्रकृति का कार्यकारिणी नियम है। आप जो कुछ दूसरों को देते हैं, वही आपको किसी न किसी रूप में वापस मिलता है। जब आप जरूरतमंद की मदद करते हैं तो प्रकृति आपकी जरूरतें पूरी करती है।

यह भी पढ़ें- हर समस्या का है समाधान, हमसे करें संपर्क

इच्छाओं को करें नियंत्रित

मनुष्य के जीवन की सारी समस्याओं का कारण उसकी बेलगाम इच्छाएं हैं। एक को पूरी करो तो दूसरी सिर उठा लेती है। उसे पूरी करो तो तीसरी मुंह बाए खड़ी हो जाती है। मनुष्य अपनी इच्छाओं में बुरी तरह से उलझ जाता है। जब इच्छाएं बढ़ती हैं, तो उसे पूरी करने के जतन बढ़ते हैं। इन दोनों के बढ़ने से जीवन में चुनौतियां और कठिनाइयां बढ़ती हैं। मनुष्य की यह अंतहीन दौड़ पूरे जीवनकाल में उसका पीछा नहीं छोड़ती हैं।

भागदौड़ की जिंदगी में कुछ समय खुद को दें

भागदौड़ की इस जिंदगी में कुछ समय खुद को अवश्य दें। खुद को समय देने का मतलब आसान, प्राणायाम और ध्यान से है। प्रतिदिन सुबह (जब आप उठें) कम से कम 15 मिनट भी इन कामों के लिए अवश्य निकालें। आप अपने जीवन में चमत्कारिक परिवर्तन महसूस करेंगे। दौड़ता-भागता मन शांत हो जाएगा। मन और शरीर में नवीन ऊर्जा का संचार होगा। सकारात्मक ताकत बढ़ेगी और आध्यात्मिक चेतना जागृत होगी।

यह भी पढ़ें : हस्ताक्षर में छुपे राज, बताता है व्यक्ति का चरित्र

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here