स्नेक आइलैंड है पुराणों में वर्णित नागद्वीप!

332
पुराणों में वर्णित नागद्वीप को लेकर भले ही अभी संशय की स्थिति हो लेकिन मौजूदा दुनिया में भी वैसे एक द्वीप का पता चला है। स्नैक आइलैंड नामक इस द्वीप में सांपों का ही साम्राज्य है। इस बारे में मान्यता यह है कि पहले पूरी दुनिया एक थी। बाद में धीरे-धीरे सभी अलग होकर सात महाद्वीप बने। वैज्ञानिक भी इस बात से सहमत हैं। वे मानते हैं कि संयुक्त महाद्वीप का नाम पैंजिया था। बाद में यही अलग होकर अलग-अलग महादेश बने। भारतीय प्राचीन ग्रंथों में भी ऐसा ही उल्लेख मिलता है। मत्स्यपुराण में प्राचीन भारत के नौ भाग बताए गए हैं। इन्द्रद्वीप, कसेरू, ताम्रपर्णी, गभस्तिमान, नागद्वीप, सौम्य, गन्धर्व, वारूण व सागर। कुछ विद्वान इसे बंगाल की खाड़ी के पास मानते हैं तो कुछ श्रीलंका के पास। लेकिन, अब ब्राजील के पास नागद्वीप मिला है जहां इंका सभ्यता के छिपे खजाने की खोज की जा रही है। मेरी राय में ब्राजील में मिला स्नेक आइलैंड ही प्राचीन भारतीय ग्रंथों में वर्णित नागद्वीप है। खास बात यह है कि सैकड़ों वर्षों तक गुमनाम रहने के बाद इस खजाने और स्नेक आइलैंड का नक्शा भारत के कोलकाता में मिला। जब सेटेलाइट में ली गई दुनिया भर के द्वीपों की तस्वीरों से उस नक्शे का मिलान किया गया तो नागद्वीप पर वह नक्शा हू-ब-हू फिट बैठा। ब्राजील के स्नेक आइलैंड में जहरीले गोल्डन पिट वाइपर सांपों की हुकूमत चलती है। ब्राजील से 93 समुद्री मील दूर स्नेक आइलैंड है। यहां पर एक वर्ग मीटर में दस सांप रहते हैं। कहीं-कहीं इससे भी अधिक सांप हो सकते हैं। इन सांपों की गिनती दुनिया के सबसे जहरीले सांपों में की जाती है। पूरे ब्राजील में सर्पदंश से होने वाली मौतों के 90 फीसद के लिए यही सांप जिम्मेदार हैं। इस आइलैंड का क्षेत्रफल 4,30,000 वर्ग मीटर हैं। एक अनुमान के अनुसार यहां 20 लाख से अधिक सांप रहते हैं। यहां हर जगह सांप दिखाई देते हैं। जमीन पर रेंगते हुए, पेड़ों से लटकते हुए, चट्टानों में छिपे हुए। ब्राजील की नौसेना ने यहां आम लोगों के प्रवेश पर रोक लगा रखी है। शोध के आए वैज्ञानिक भी यहां अधिक अंदर प्रवेश करने से डरते हैं।
अब हम आपको एक ऐसे परिवार कि कहानी सुनाते है जो कि इनका शिकार हुआ था। यह आइलैंड

शुरू से ऐसा नहीं था। यहां पर पहले सांपों कि इतनी आबादी नहीं थी और जो थे वो आइलैंड के मध्य वाले भाग में थे जो कि ज्यादा घना था। यहाँ पर तट के पास एक लाइट हाउस बना हुआ है जिसमे कि ब्राजीलियन नेवी का एक कर्मचारी ड्यूटी दिया करता था। केयर टेकर अपनी पत्नी और तीन बच्चों के साथ लाइट हाउस में बने एक कॉटेज में रहता था। ब्राजील की नौसेना का एक जहाज उनके पास उनकी जरूरत का सामान पहुचाया करता था। लेकिन, धीरे धीरे यहाँ साँपों कि संख्या बढऩे लगी और तट के पास वाले इलाके में भी सांप नजर आने लगे। एक दिन कुछ जहरीले गोल्डन पिटवाइपर सांप उनके कॉटेज में खिड़की के टूटे कांच से घुस गए। इसके बाद जान बचाने के लिए पूरा परिवार अपनी नाव की ओर भागा लेकिन, रास्ते में ही सभी जहरीले सांपों का शिकार बन गए। इस आइलैंड से जुडी हुई एक और घटना स्थानीय लोग बताते है। इस आइलैंड पर केले के पेड़ भी बहुतायत से पाये जाते है। एक बार एक नाविक अपने साथियों के मना करने के बावजूद अंदर केले लेने चला गया पर वो वहाँ पर सांप का शिकार हो गया। वह किसी तरह वापस तो लौटा लेकिन नाव पर पहुंचते ही उसकी मौत हो गई। यहां से होकर काफी प्रवासी पक्षी गुजरते हैं और सांपों का मुख्य आहार भी यही पक्षी हैं। द्वीप के इस गुण को लेकर यह चर्चा शुरू हो गई है कि पुराणों में वर्णित स्नैक आइलैंड यही हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here