Home उपयोगी टिप्स राशि के आधार पर जानें अपना व्यक्तित्व और भाग्य

राशि के आधार पर जानें अपना व्यक्तित्व और भाग्य

6239

know your personality and fortune based on zodiac sign : राशि के आधार पर जानें अपना व्यक्तित्व और भाग्य। इसमें इस बार पढ़ें सिंह और कन्या राशि के बारे में। इसमें उनके अनुकूल नाम के पहले अक्षर की भी जानकारी है। साथ ही बताया जाएगा कि उनके राशि का चिह्न। उसके गुण और दोष। व्यक्तित्व और स्वास्थ्य की स्थिति। साथ ही बताया जाएगा कि करियर के लिए कौन सा क्षेत्र उपयुक्त है। सबसे पहले सिंह राशि के बारे में पढ़ें। उसके नीचे कन्या राशि के जातक की बातें हैं।

सिंह राशि की खास बातें

राशि के आधार पर जानें खुद को में शुरुआत नाम से। सिंह राशि वाले के नाम का पहला अक्षर मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू या टे होना चाहिए। राशि का चिह्न शेर है। अतः स्वभाव आक्रामक होता है। इसके स्वामी सूर्य और तत्व अग्नि हैं। वे जातक को ओजस्वी बनाते हैं। व्यक्ति दिमागी रूप से तेज होता है। यह शाही राशि मानी जाती है। जातक की सोच, खान-पान और रहने में भी यह झलकता है। ये बात के पक्के होते हैं। ये साहसी, जिंदादिल, दयालु और उत्साही होते हैं। जिस किसी से प्रेम करते हैं, मरते दम तक निभाते हैं। जातक जल्दबाज भी होते हैं। ये लोग खुशामद पसंद भी होते हैं। व्यक्तित्व आकर्षक होता है। उसे निहारना इन्हें पसंद होता है। अपनी उत्सुकता, आश्चर्यजनक स्पष्टवादिता और बुद्धि की सराहना करना इन्हें अच्छा लगता है। उधार पैसे देने में नुकसान होता है।

गंभीर और तेजस्वी होते हैं, दखल पसंद नहीं

जातक गंभीर और तेजस्वी होते हैं। इनमें अच्छा जीवन साथी बनने के सारे गुण होते हैं। अपने उग्र स्वभाव और गुस्से के प्रति भी समर्पण की भावना चाहते हैं। इरादे के मजबूत और धैर्यवान होते हैं। अपनी उपलब्धियों का जय गान करते हैं। इससे उनके अंहकार की भावना को संतुष्टि मिलती हैं। राशि के आधार पर देखें तो ये खुद निर्णय लेना पसंद करते हैं। जो सलाह दूसरों को देते हैं उस पर खुद भी अमल करते हैं। साथ ही कमजोरों की रक्षा करते हैं। वह जो खाता है वही खाएगा, अन्यथा भूखा रहना पसंद करेगा। व्यक्तिगत जीवन में दूसरों की दखल पसंद नहीं करता है। इनके काम देखकर दूसरे असमंजस में पड़ जाते हैं। ये सरकार जैसे और राजाओं जैसे ज़िन्दगी जीने का शौक रखते हैं। कम भोजन करना और खूब घूमना, इनकी आदत होती है। वाणी और चाल में शालीनता होती है।

करियर के क्षेत्र

स्वर्ण, पीतल और हीरा-जवाहरात का व्यवसाय फायदा देने वाला होता है। ये लोग सरकार और नगर पालिका में काम करें तो लाभ अधिक मिलता है। इनमें नेतृत्व का गुण होता है। ऐसे काम में सफल होते हैं। इस राशि वालों के पास अपना धन होता है। साहसिक कार्य में हमेशा आगे रहने से उसमें भी सफल होते हैं।

स्वास्थ्य की स्थिति

राशि के आधार पर देखें तो आमतौर पर ये स्वस्थ रहते है। यदि ऐसा नहीं हुआ तो फ़िर आजीवन बीमार रहते हैं। जिस वातावरण में इनको रहना चाहिए, वह न मिले या इनके अभिमान को ठेस पहुंचे तो मानसिक कारणों से बीमार रहने लगते हैं। इन्हें रीढ़ की हड्डी की बीमारी या चोटों से से भी खतरा रहता है। इनके लिये ह्रदय रोग, धड़कन का तेज होना, लू लगना और संधिवात ज्वर होना आदि सामान्य है। पित्त और वायु विकार का खतरा रहता है। मूत्र रोग और ह्रदय रोगों के प्रति सतर्क रहना चाहिए।

रखें इन बातों का ध्यान

जातक को किसी भी माह के 1, 10, 19 व 28 तारीखों तथा 21 नवंबर से 28 दिसंबर के बीच जन्मे व्यक्ति से विवाह और व्यापार करना चाहिए। जीवन आनंदित रहेगा। घर से निकलते समय मुंह में मीठा लेकर पानी पीएं। तब सफलता मिलेगी। भगवान विष्णु की उपासना करें। सूर्य को अर्घ्य दें और रविवार का व्रत करें।

यह भी पढ़ें – आत्मरक्षा व शत्रुनाश में प्रत्यंगिरा मालामंत्र का जवाब नहीं

जानिए कन्या राशि की खास बातें

राशि के आधार पर देखें तो कन्या राशि वाले का नाम ढो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे या पो से शुरू होना बेहतर होता है। राशि का स्वरूप हाथ में फूल लिये कन्या है। ये विश्वसनीय, बुद्धि और शील वाले होते हैं। इनमें बात का बतंगड़ बनाने की भी आदत होती है। कई बार अत्यधिक रूखे हो जाते हैं। इन्हें विपरीत परिस्थितियां डिगा नहीं पातीं। स्वभाव में नम्रता और लज्जा का पुट होता है। ये दिल से अधिक काम लेते हैं। इन्हें क्रोध कम आता है। जब आता है तो जल्दी पीछा नहीं छोड़ता। विवाह और भागीदारी हेतु मीन राशि के जातक उत्तम हैं। इनकी सोच बड़ी विलक्षण होती है। इन्हें कलाओं से प्रेम होता है। विभिन्न वस्तुओं का संग्रह करने का चाव भी होता है। ये समालोचक होते हैं। इनका शरीर स्त्रियों की तरह कोमल होता है। साधारण सी चोट से भी तड़प उठते हैं।

नाजुक और भरोसेमंद होते हैं

ये छोटी से छोटी जानकारी को ध्यान में रखते हैं। मानवता की गहरी समझ होती है। जीवन के प्रति व्यवस्थित दृष्टिकोण होता है। ये नाजुक और धार्मिक प्रवृत्ति के होते हैं। रूढ़िवादी और संगठित चीजों को पसंद करते हैं। उनके लक्ष्य और सपने स्पष्ट होते हैं। इनमें भाषण और लेखन के साथ ही संवाद की अच्छी क्षमता होती है। वे सामरिक और व्यवस्थित होते हैं। कम लोगों से निजी संबंध रखते हैं। जिनसे रखते हैं उनके प्रति समर्पित होते हैं। ये उत्कृष्ट सलाहकार हैं। इन्हें समस्या को हल करने के बारे में पता होता है। अपने परिवार के लिए बहुत समर्पित होते हैं। खासकर बुजुर्ग और बीमार लोगों का बहुत ख्याल रखते हैं। वे बहुत ही योग्य माता-पिता होते हैं। ये सीधे अपनी भावनाओं को नहीं दिखाते हैं। ठोस कृत्यों के माध्यम से ऐसा करते हैं। राशि के आधार पर कहें तो भरोसेमंद होते हैं।

करियर के क्षेत्र में

लेखक या पत्रकार के रूप में करियर को आगे बढ़ाने के लिए चुन सकते हैं। ये सेवा करना और दूसरों को खुश रखना चाहते हैं। इसलिए वे अक्सर ऐसे काम चुनते हैं। इसमें सफल भी होते हैं। मकान और जमीन के बारे में इनकी समझ में अच्छी होती है। संगठन की आवश्यकता वाली नौकरियों में अच्छा करते हैं। उन्हें पुस्तकों और कला से प्यार होता है। डॉक्टर, नर्स, मनोवैज्ञानिक, शिक्षक, लेखक और आलोचक अनुकूल क्षेत्र है।

स्वास्थ्य के बारे में

स्वास्थ्य के मामले में राशि के आधार पर देखें तो पेट व ठंड की समस्या ज्यादा होती है। फेफड़ों में ठंड लगने का खतरा रहता है। पाचन प्रणाली में समस्या व आंतों में घाव आम है। पैर के रोगों से भी सचेत रहना चाहिए। बुध खराब होने पर चेचक, दिमाग के रोग, नाड़ी, जीभ व दांत की बीमारी हो सकती है। सूंघने की क्षमता भी कमजोर हो सकती है।

रखें इनका ध्यान

बुधवार को कोई नमकीन चीज न खाएं। बहन को दुखी न रखें। किसी से भी वादाखिलाफी न करें। झूठ न बोलें और गप्पबाजी न करें। किसी की नकल न उतारें। दिखावा या चालाकी न करें। बारिश का पानी बोतल में एकत्र करके घर में रखें। साबूत मूंग बहते पानी में बहाएं। मां दुर्गा की उपासना करें। बुधवार का व्रत रख सकते हैं।

नोट- राशि के आधार पर जानें अपना व्यक्तित्व और भाग्य पढ़ा। इसमें आज सिंह व कन्या राशि के बारे में है। अगले अंक में पढ़ें तुला और वृश्चिक राशि के बारे में।

प्रस्तुति- प्रवीण कुमार झा

यह भी पढ़ें- दैनिक उपयोग में आने वाले मंत्र, करे हर समस्या का समाधान

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here