वृष राशि वालों को प्रसन्नता, कर्क वालों की गति होगी धीमी

107
18 मई 2022 राशिफल और दो दिन का पंचांग
18 मई 2022 का राशिफल और दो दिन का पंचांग।

rashifal-panchang of 18 october : वृष राशि वालों को प्रसन्नता मिलेगी। कर्क राशि वालों की गति धीमी रहेगी। बात कर रहा हूं 18 अक्टूबर के राशिफल की। इसके साथ देखें पंचांग। इसमें सूर्योदय व सूर्यास्त का समय है। अच्छे मुहुर्त की जानकारी है। राहुकाल, दिशा शूल की सूचना है। यात्रा जरूरी हो तो वैकल्पिक उपाय भी दिया गया है।

रविवार का पंचांग

18 अक्टूबर। विक्रम संवत्- 2077। शक संवत्- 1942। अयन- दक्षिणायन। ऋतु- शरद। मास- अश्विन। पक्ष- शुक्ल। तिथि- द्वितीया शाम के 05.27 बजे तक। नक्षत्र- चित्रा सुबह के 08.52 बजे तक उसके बाद विशाखा। योग- प्रिति शाम के 05.13 बजे तक। दिशाशूल- नैऋत्य (दक्षिण-पश्चिम) दिशा। सूर्योदय- प्रातः 06.24 बजे। सूर्यास्त- सायं 17:48 बजे। राहुकाल- शाम के 04.23 से 05.48 बजे तक। अभिजीत मुहूर्त- दिन के 11.43 से 12.29 बजे तक।

सोमवार का पंचांग

19 अक्टूबर। विक्रम संवत्- 2077। शक संवत्- 1942। अयन- दक्षिणायन। ऋतु- शरद। मास- अश्विन। पक्ष- शुक्ल। तिथि- तृतीया दिन के 02.07 बजे तक। नक्षत्र- अनुराधा अगले दिन तड़के के 03.53 बजे तक। योग- आयुष्मान दिन के 01.19 बजे तक। दिशा शूल- पूर्व दिशा। सूर्योदय- प्रातः 06.24 बजे। सूर्यास्त- सायं 17:47 बजे। राहुकाल- सुबह के 07.50 से 09.15 बजे तक। अभिजीत मुहूर्त- दिन के 11.43 से 12.29 बजे तक।

18 अक्टूबर का राशिफल

मेष

आपके लिए दिन मिश्रित फल लेकर आया है। कार्यक्षेत्र में सावधान रहें। विरोधी साजिश कर सकते हैं। पुराना विवाद उभर सकता है। धैर्य और शांति से उनका सामना करें। कोई भी आपका खास नुकसान नहीं कर सकेगा।

वृष

वृष राशि वालों को मिलेगी प्रसन्नता। आज का दिन आपके लिए शुभ है। नए कार्य को बेहिचक शुरू करें। उसमें आपको सफलता मिलेगी। कार्यक्षेत्र में व्यस्तता के बाद भी संतोष मिलेगा। परिवार में मांगलिक कार्य का योग बन सकता है।

मिथुन

आर्थिक रूप से दिन अनुकूल है। नए निवेश के लिए अनुकूल समय है। आज आपके नाम कुछ उपलब्धियां जुड़ सकती हैं। यात्रा का योग बन रहा है। उससे भविष्य में फायदा होगा। जीवनसाथी के साथ मतभेद बढ़ सकता है। उन पर ध्यान दें।

कर्क

यह दिन थोड़ा तनाव लेकर आया है। काम में अपेक्षित सफलता नहीं मिलेगी। वृष राशि वालों को प्रसन्नता मिलेगी लेकिन आप काम की धीमी गति से परेशान रहेंगे। इसलिए उसमें विलंब होगा। वाणी पर नियंत्रण रखें। अन्यथा रिश्तेदारों के साथ मतभेद हो सकता है।

सिंह

निवेश के लिए दिन उपयुक्त नहीं है। पैसे को पकड़ कर रखें। खर्च भी बहुत जरूरी होने पर करें। कार्यक्षेत्र में सहयोगियों का साथ मिलेगा। संतान पक्ष से थोड़ी चिंता रह सकती है। धार्मिक कार्य में हिस्सा लेने का योग है। उससे आंतरिक खुशी मिलेगी।

कन्या

आज खुशखबरी का योग है। कार्यक्षेत्र में आपकी जिम्मेदारी बढ़ सकती है। आपका कद भी बढ़ेगा। व्यापारियों के काम में वृद्धि की योजना बनेगी। परिवारजन के साथ अच्छा समय बिताएंगे। मनोरंजक यात्रा की योजना बन सकती है।

तुला

स्वास्थ्य संबंधी परेशानी रह सकती है। खान-पान पर विशेष ध्यान दें। क्रोध पर भी नियंत्रण रखें। पुराने मित्र से मुलाकात संभव है। उससे खुशी मिलेगी। निवेश के लिए अनुकूल समय है। जीवनसाथी के साथ अच्छा समय बिता सकेंगे।

वृश्चिक

आज सावधानी बरतें। अपनी गुप्त बात किसी से साझा न करें। आपकी बात का गलत अर्थ निकाला जा सकता है। रोजी-रोजगार के क्षेत्र में ज्यादा सतर्क रहें। आपकी मेहनत से काम बेहतर होगा। इससे आपको प्रशंसा मिलेगी।

धनु

प्रेम संबंध के लिहाज से दिन ठीक है। युवाओं की बात आगे बढ़ेगी। दंपतियों का संबंध मधुर होगा। कार्यक्षेत्र में मिलने वाले लोगों से संबंध अच्छा होगा। यात्रा का योग बन रहा है। उसमें थोड़ी परेशानी हो सकती है। खान-पान में सतर्कता बरतें।

मकर

आपके प्रयास रंग लाएंगे। बेहतर प्रदर्शन की सभी प्रशंसा करेंगे। काफी समय से चल रहा विवाद खत्म हो सकता है। निवेश से पहले विशेषज्ञ से सलाह अवश्य लें। पुराने मित्र से आकस्मिक मुलाकात संभव है। संतान पक्ष से थोड़ी समस्या हो सकती है।

कुंभ

वाहन चलाने में सावधानी बरतें। छोटी दुर्घटना हो सकती है। मामूली चोट का योग है। राजनीति करने वालों के लिए अच्छा समय है। संगठन में आपका कद बढ़ेगा। संतान पक्ष से सुखद समाचार मिल सकता है। विद्यार्थियों को थोड़ी परेशानी उठानी पड़ेगी।

मीन

आपके लिए थोड़ी परेशानी वाला दिन है। वृष राशि वालों को जहां प्रसन्नता मिलेगी, वहीं इस राशि वाले को तनाव मिलेगा। अकारण विवाद में फंस सकते हैं। परिवार में वाद-विवाद से मन खिन्न रह सकता है। पेट की समस्या से परेशान हो सकते हैं।

नोट-वृष राशि वालों को प्रसन्नता मिलेगी। बात है 18 अक्टूबर के राशिफल की। इसमें दिशा शूल की जानकारी है। यात्रा उसी दिशा में जरूरी हो तो घी चखकर करें। दोष में कमी आएगी।

यह भी पढ़ें- कठोर तप की प्रेरणा देती हैं दुर्गा की दूसरा रूप ब्रह्मचारिणी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here