भगवान जगन्नाथ की मूर्ति में छिपा है रहस्यमय ब्रह्मपदार्थ

545

भगवान जगन्नाथ के बारे में कौन नहीं जानता। ओडिशा के पुरी को इसी कारण जगन्नाथपुरी के नाम से भी जाना जाता है। आज हम आपको एक ऐसे रहस्य के बारे में बता रहे हैं जिसकी जानकारी बहुत कम लोगों को है। वह है भगवान जगन्नाथ, बलभद्र, देवी सुभद्रा और सुदर्शन की मूर्तियों के ब्रह्म पदार्थ। यह ब्रह्म पदार्थ क्या है, इस बारे में कोई नहीं जानता। यह काफी रहस्यमय चीज है…..आइए, इस पर हम थोड़ा प्रकाश डालते हैं…


जगन्नाथ जी की रथ यात्रा काफी धूम-धाम से संपन्न होती है। इसमें चारों मूर्तियां रथों पर सवार होकर निकलती हैं। ये मूर्तियां लकड़ी की होती हैं। एक निश्चित अवधि होने के बाद इन मूर्तियों को बदल दिया जाता है। स्थानीय लोग इसे नवकलेवर उत्सव के नाम से जानते हैं। कलेवर का अर्थ शरीर होता है। भगवान के रथ निर्माण से पहले जंगल से लकड़ी लाई जाती है। इस काम के लिए प्रार्थना कर देवताओं से अनुमति प्राप्त की जाती है। 12 से 18 वर्ष के अंतराल पर यह प्रक्रिया की जाती है। मूर्तियां तो नई बन जाती हैं। लेकिन, जिस प्रकार जीव के दो भो होते हैं-शरीर और आत्मा, उसी प्रकार इन मूर्तियों के भी दो भाग माने जाते हैं। एक लकड़ी का नश्वर आवरण और दूसरा अविनाशी ब्रह्म पदार्थ।


कहा जाता है कि इस पर समय का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। इसे आत्म पदार्थ के नाम से भी जाना जाता है। नवकलेवर विधान में इसी ब्रह्म पदार्थ को पुरानी से नई मूर्तियों में स्थानांतरित किया जाता है। इस विधान के अनुसार भगवान का कहना है, ”यद्यपि मैं पूर्ण ब्रह्म हूंं , जन्म और पुर्नजन्म के चक्र से परे, तथापि मैं तुम्हारा आराध्य हूं और इस लिए मैं तुम से भिन्न नहीं हूं। जैसे आत्मा एक से दूसरे शरीर में प्रविष्ट करती है, उसी प्रकार मैं भी वही करता हूं क्योंकि अवतार के रूप में मैं जीव से भिन्न नहीं रहना चाहता। नवकलेवर उत्सव के तहत पहले विधि-विधान से उन पेड़ों को खोज कर निकाला जाता है जिनसे भगवान की प्रतिमाएं बनती हैं। जगन्नाथ मंदिर के लगभग 100 सेवक मंदिर के प्रधान सेवक मछराल गजपति से यात्रा की अनुमति प्राप्त करते है और फिर वे देवी मंगला के मंदिर में जाकर प्रार्थना करते है। चार वरिष्ठ सेवक मूर्ति के सानिध्य के सम्बन्ध में देवी प्ररेणा ग्रहण करते हैं। इसके बाद नीम के पेड़ों की तलाश की जाती है। पूजा के बाद इन पेड़ों को सफेद कपड़ों से ढंक कर गिराया जाता है।


इसके बाद मंदिर लाकर इन लकड़ियों की देव स्नान पूर्णिमा तक पूजा की जाती है। बाद में कुछ विधि-विधानों के बाद चार दिनों में इन प्रतिमाओं का निर्माण होता है। इसके बाद शुरू होती है सबसे गुप्त परंपरा। नई और पुरानी प्रतिमाओं को आमने-सामने रखा जाता है। इसके बाद मंदिर समेत पूरे शहर की बिजली गुल कर दी जाती है। यहाँ तक कि विधि-विधान करने वाले पुजारियों की आंखों पर भी पट्टी बांध दी जाती है। इसके बाद ब्रह्म पदार्थ को पुरानी से नई मूर्तियों में स्थापित किया जाता है। इसके बाद मूर्तियों की प्राण-प्रतिष्ठा होती है। प्राण प्रतिष्ठा के बाद मूर्तियों को जुलूस में ले जाया जाता है और अगले दिन रथ यात्रा होती है। फिर भी यह रहस्य बरकरार है कि यह ब्रह्म पदार्थ या आत्म पदार्थ क्या है।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here