सृष्टि का विज्ञान है वेद-2

402

वेद को दुनिया के सबसे प्राचीन धर्मों में से एक माना जाता है। इसमें प्रकृति के ही अंग अग्नि, इंद्र, मित्र, वरुण आदि देवताओं की स्तुतियां संग्रहित हैं। वास्तव में ये मंत्र एक तरह से प्राकृतिक ताकतों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त कर उनसे मानव कल्याण के लिए प्रार्थना हैं। इन मंत्रों की रचना विभिन्न गोत्रों के ऋषियों ने की है। वेदों में भी पहला ग्रंथ ऋग्वेद माना जाता है। यह दस मंडलों में विभक्त है। जिसमें दो से सात मंडल सबसे प्राचीन और मौलिक माने जाते हैं। वहीं प्रथम और दसवां मंडल बाद में जोड़ा गया प्रतीत होता है। ऋग्वेद की अनेक बातें ईरानी भाषा का प्रचीनतम ग्रंथ अवेस्ता से मिलती है। इस आधार पर कई विद्वान मानते हैं कि आर्य यूरोप से पश्चिम एशिया होते हुए भारत पहुंचे। ऋग्वेद एवं ईरानी ग्रंथ अवेस्ता में बहुत से देवताओं के और सामाजिक वर्गों के नाम भी समान हैं।


ऋग्वेद के अनुसार आर्यों की (जो कि 1500 ई पूर्व भारत आए उनकी) सबसे पवित्र नदी सिंधु थी। जबकि सरस्वती दूसरी प्रमुख नदी थी। ऋग्वेद में इंद्र को पुरंदर अर्थात किले को तोड़ने वाला कहा गया है। ऋग्वैदिक प्रशासन कबाईली था। इसी काल में व्यवसाय के आधार पर समाज का वर्गीकरण शुरू हुआ। ऋग्वेद में सबसे ज्यादा स्तुति इंद्र की 250 बार, अग्नि की 200 बार की गई है। अग्नि देव देवताओं और मानवों के बीच मध्यस्थ का काम करते थे। इसी कारण मानव द्वारा अग्नि में दी गई आहुति देवताओं तक पहुंचती थी। जबकि वरूण देव भी काफी आदरणीय थे। नवें मंडल में सोम रस के बारे में बताया गया है जबकि दसवां मंडल पुरुष सुक्त से संबंधित है। ऋग्वेद, सामवेद व यजुर्वेद को त्रिवेद भी कहा जाता है। ऋग्वेद के सभी मंत्रों को अन्य वेदों में भी समाहित किया गया है। तदंतर वेद के चार स्वरूप हुए।


1.ऋग्वेद : इसमें ऋचाओं (श्लोक) की संख्या 1028 है। यह मंत्रों का संग्रह है। इस वेद के मंत्रद्रष्टा अर्थात पाठ करने वाले होता कहलाते हैं।
2.सामवेद : इसमें ऋचाओं (श्लोक) की संख्या 1810 है। इसमें मंत्रों को गायन के लिए धुन में बांधा गया है। इस वेद के मंत्रद्रष्टा अर्थात पाठ करने वाले उदगाता कहलाते हैं।
3.युजर्वेद : इसमें ऋचाओं (श्लोक) की संख्या 1875 है। इसमें मंत्रों के गायन और उसके अनुष्ठान की विधि के बारे में बताया गया है। इस वेद के मंत्रद्रष्टा अर्थात पाठ करने वाले अध्वर्यु कहलाते हैं।
4.अथर्वर्वेद : इसमें ऋचाओं (श्लोक) की संख्या 731 है। इसमें विपत्ति और व्याधि नाश एवं भूत- प्रेत से मुक्ति संबंधित मंत्र हैं। इस वेद के मंत्रद्रष्टा अर्थात पाठ करने वाले ब्रह्मा कहलाते हैं।


वेद की ऋचाओं को बताने वाले ऋषि व द्रष्टा : बाद के दिनों में विभिन्न गोत्रों से संबंध रखने वाले ऋषियों ने ऋग्वेद के ऋचाओं की रचना की। इनके नाम हैं-मधुच्छंदा, विश्वामित्र, मेधातिथि, कण्व, जेता, आजीपति, घोर हिरण्यस्तूप, आंगिरस, प्रस्कण्व, सव्य, नोधा,गौतम, पराशर, शाक्य, राहुगण, कुत्स, ऋज्राश्व, अम्बरीष, कश्यप, मारीच,आप्त्यावित, कक्षीवान, दीर्घतमस, परच्छेप, अगस्त्य, मरूच्छेप, लोपामुद्रा,गुत्समद, सोमादुतिभार्गव, शौनक, कूर्म, उत्कीलकात्य, कौशिक,देवश्रवा, प्रजापति, वामदेव, वशिष्ठ, पुरूमीलहज व भरद्वाज।


ऋग्वेद अध्याय-1, सूक्त-2, अनुवाक-1

(ऋषि-मधुच्छंदा वैश्वामित्र। देवता-वायु, इंद्रवायु, मित्र वरुण। छंद-गायत्री)
वायवा याहि दर्शते में सोमा अरंकृता:। तेषां पाहि श्रुधि हवम्।।1
वाय उक्थेभिर्जरन्ते त्वामच्छा जरितार:। सुतसोमा अहर्विद: ।।2
वायो तव प्रपृञ्चती धेना जिदाति दाशुषे। उरूची सोमपीतये ।।3
इंद्रवायु इमे सुता उप प्रयोभिरा गतम्। इंदवो वामुशन्ति हि ।।4
वियुविंद्रश्च चेतथ: सुतानां वाजिनीवसू। तावा यातमुप द्रवत् ।।5।।3

अर्थ–हे प्रिय दर्शन वायो! यहां आइए, आपके लिए यह सुसिद्ध सोम रखा हुआ है, उसे पीते हुए हमारे वचनों पर ध्यान दीजिए। हे वायो! यह सोम निष्पन्न करने वाले और इसके गुणों को जानने वाले स्तोता आपका गुणगान करते हुए स्तुति करते हैं। हे वायो! आपकी मर्मस्पर्शी वाणी सोम की कामना से दाता को शीघ्र प्राप्त होती है। हे इंद्र-वायो! यहां प्रस्तुत सोमरस आपके लिए ही है, अत: अन्नादि सहित आइए। हे वायो! हे इंद्र! आप अन्न सहित सोमों के त्राता हैं, अत: शीघ्र आइए।


वायविंद्रश्च सुन्वत आ यातमुप निष्कृतम्। मक्ष्वि त्था धिया नरा ।।6
मित्रं हुवे पूतदक्षं वरुणं च रिशादसम्। धियं घृताचीं साधन्ता ।।7
ऋतेन मित्रावरुणा वृतावृधावृतस्पृशा। क्रतुं बृहन्तमाशाथे ।।8
कवी नो मित्रावरुणा तुविजाता उरुक्षया। दक्षं दधाते अपसम् ।।9।।4

अर्थ–हे इंद्र और वायो! इस सिद्ध किये सोमरस के पास शीघ्र आइए। आप दोनों ही योग्य पदार्थ को प्राप्त करते हैं। पवित्र बल वाले मित्र और शत्रुनाशक वरुण का मैं आह्वान करता हूं। ये ज्ञान और कर्म को प्रेरित करने वाले हैं। ये मित्र और वरुण सत्य से वृद्धि को प्राप्त होने वाले सत्यस्वरूप तथा सत्य से विशालता को प्राप्त यज्ञ को संपन्न करने वाले हैं। ये मित्र-वरुण शक्तिशाली एवं सर्वत्र व्याप्त हैं और जल द्वारा कर्मों को प्रेरित करते हैं। दोनों सब कर्मों और अधिकारों को वश में करने वाले हैं।


विशेष– उपरोक्त वेद मंत्रों में इंद्र, वायु, मित्र और वरुण की प्रार्थना की गई है। उनकी क्षमता की चर्चा करते हुए उनका गुणगान किया गया है। उनसे आग्रह किया गया है कि वे अन्नादि सहित शीघ्र आकर सोमरस का पान करें। यहां किसी तरह की विशेष पूजा और आडंबर नहीं है।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here