Friday, March 5, 2021
Home बोध कथा

बोध कथा

    ण

    अयोग्य और आलसी ही रोते हैं भाग्य का रोना

    0
    Only incompetent and lazy cry for luck : अयोग्य और आलसी ही रोते हैं भाग्य का रोना। योग्य और परिश्रमी अपनी राह बनाते हैं।...
    ऋषियों का वरदान योग रखता है निरोग : पहला भाग

    अपने मन के मालिक बनें, सुख-दुख होगा आपके हाथ

    0
    Become the master of your mind : अपने मन के मालिक बनें। सुख-दुख आपके हाथ में होगा। साबित हो चुका है कि सुख-दुख हमारे...
    प्रकृति भेदभाव नहीं करती है, अध्यात्म में सबके लिए समान अवसर

    जानें धर्म का मर्म जिससे जीवन होगा सफल

    0
    Know the quintessence of religion : जानें धर्म का मर्म जिससे जीवन होगा सफल। आजकल धर्म पर बाजार हावी हो गया। नकली बाबाओं ने...
    ईश्वर की प्राप्ति के लिए अहम से मुक्ति जरूरी

    ईश्वर की प्राप्ति के लिए अहम से मुक्ति जरूरी

    0
    emancipation is important for the attainment of god : ईश्वर की प्राप्ति के लिए अहम से मुक्ति जरूरी। यह संदेश विभिन्न तरीकों से दिया...
    प्रकृति भेदभाव नहीं करती है, अध्यात्म में सबके लिए समान अवसर

    किसी का अंधानुकरण नहीं करें, सहज और सरल है धर्म

    0
    don't be a blind follower : किसी का अंधानुकरण नहीं करें। धर्म सरल, सहज और सुबोध है। इसमें कोई पेंच नहीं है। पोंगापंथी और...
    मति बदली तो जीवन बदला, अहंकार का हुआ अंत

    मति बदली तो जीवन बदला, अहंकार का हुआ अंत

    0
    end of ego change of life : मति बदली तो जीवन बदला। यह बोध कथा है अहंकार के अंत की। अहंकार किसी का नहीं...
    साष्टांग प्रणाम सर्वश्रेष्ठ लेकिन स्त्रियां नहीं कर सकतीं, जानें क्यों

    अधिक उतावले न बनें, भगवान सबकी सुनते हैं

    0
    God listens to everyone : अधिक उतावले न बनें, भगवान सबकी सुनते हैं। समस्या हममें है। हम जरूरत होने पर भगवान की प्रार्थना करते...
    पंचक में रहें सावधान, जानें इनके अर्थ और रखें सावधानी

    सुना है दिन-रात बरसती है उसकी रहमत

    0
    दिन-रात बरसती है रहमत। यह प्रसिद्ध बात आपने भी सुनी होगी। सवाल उठता है कि दिन-रात बरसती है रहमत तो हमें मिलती क्यों नहीं...

    बोधकथा :शाश्वत आत्मा और नश्वर शरीर के बीच का भेद

    0
    लोग अक्सर आत्मा और शरीर के भेद को नहीं समझ पाते हैं। उन्हें दोनों एक ही लगता है। यह सही है कि सामान्य नजरिए...

    जीवन सत्य: हमारी सोच का प्रतिबिंब है हमारी स्थिति

    0
    एक बार एक संत अपने शिष्यों के साथ नदी में स्नान कर रहे थे। तभी एक राहगीर वहां से गुजरा। महात्मा को नदी में...